गुरुसत्संग : गुरु आपके हमेशा अंग संग है - Guru Aapake Hamesha Ang Sang Hai : GuruSatsang

🌷 *गुरुसत्संग स्वामी जी*🌷
गुरुसत्संग : गुरु आपके हमेशा अंग संग है - Guru Aapake Hamesha Ang Sang Hai : GuruSatsang
गुरुसत्संग : गुरु आपके हमेशा अंग संग है - Guru Aapake Hamesha Ang Sang Hai : GuruSatsang
*एक बार स्वामी विवेकानंद जी किसी स्थान पर प्रवचन दे रहे थे । श्रोताओ के बीच एक मंजा हुआ चित्रकार भी बैठा था । उसे व्याख्यान देते स्वामी जी अत्यंत ओजस्वी लगे । इतने कि वह अपनी डायरी के एक पृष्ठ पर उनका रेखाचित्र बनाने लगा।*

*प्रवचन समाप्त होते ही उसने वह चित्र स्वामी विवेकानंद जी को दिखाया । चित्र देखते ही, स्वामी जी हतप्रभ रह गए । पूछ बैठे - यह मंच पर ठीक मेरे सिर के पीछे तुमने जो चेहरा बनाया है , जानते हो यह किसका है ? चित्रकार बोला - नहीं तो .... पर पूरे व्याख्यान के दौरान मुझे यह चेहरा ठीक आपके पीछे झिलमिलाता दिखाई देता रहा।*

*यह सुनते ही विवेकानंद जी भावुक हो उठे । रुंधे कंठ से बोले - " धन्य है तुम्हारी आँखे ! तुमने आज साक्षात मेरे गुरुदेव श्री रामकृष्ण परमहंस जी के दर्शन किए ! यह चेहरा मेरे गुरुदेव का ही है, जो हमेशा दिव्य रूप में, हर प्रवचन में, मेरे अंग संग रहते है ।*

*मैं नहीं बोलता, ये ही बोलते है । मेरी क्या हस्ती, जो कुछ कह-सुना पाऊं ! वैसे भी देखो न, माइक आगे होता है और मुख पीछे। ठीक यही अलौकिक दृश्य इस चित्र में है। मैं आगे हूँ और वास्तविक वक्ता - मेरे गुरुदेव पीछे !"*

*"गुरु शिष्यों में युगों युगों से यही रहस्यमयी लीला होती आ रही है ।"*

*"अपने गुरु पर पूर्ण विश्वास रखे क्योंकि वह सदैव हमारे साथ हैं.!!"*
🌷 *GuruSatsang*🌷

गुरुसत्संग : गुरु आपके हमेशा अंग संग है - Guru Aapake Hamesha Ang Sang Hai : GuruSatsang

Post a Comment

[random][list]
[blogger][facebook]

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.