गुरुसत्संग : शब्द : जन्म-2 से रहो दुखीयारो,बनो काल को बैल - Janm-2 se Raho Dukheeyaaro,Bano Kaal ko Bail : GuruSatsang

🌷 *GuruSatsang*🌷
शब्द : जन्म-2 से रहो दुखीयारो,बनो काल को बैल - Janm-2 se Raho Dukheeyaaro,Bano Kaal ko Bail : GuruSatsang
शब्द : जन्म-2 से रहो दुखीयारो,बनो काल को बैल - Janm-2 se Raho Dukheeyaaro,Bano Kaal ko Bail : GuruSatsang
1. जन्म-2 से रहो दुखीयारो,बनो काल को बैल ।
काल कमाई काम ना आई, रहो घाणी के बैल ।।

2.ऐसा नाम सुनाया मेरे दाता,पाया नीज घर का भेद ।
बिना शीश का चालना , ये घर जाने की गैल ।।

3. ऐसा खेल बताया मेरे दाता, खेलू रोज हमेश ।
सुरत शब्द का सहज साधन, दीप जलै बिन तेल ।।

4.साहिब कंवर मिले दयालु,करी दया की मेहर ।
दासलीलू अब होया निश्चय, रही ना यम की पैल।।
🌷 *GuruSatsang*🌷

गुरुसत्संग : शब्द : जन्म-2 से रहो दुखीयारो,बनो काल को बैल - Janm-2 se Raho Dukheeyaaro,Bano Kaal ko Bail : GuruSatsang

Post a Comment

[random][list]
[blogger][facebook]

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.